Breaking News

फूलों का गीत

हम फूलों ने सीखा खिलना
हँसना और हँसाना,
अपनी मधुर महक से सारे
उपवन की महकाना।

मन्द पवन में झूम-झूमकर
डाली पर इतराना,
भौरों के मन के प्याले को
मधु रस से भर जाना ।

तितली अपने चपल परों की
रंगत हम से पाती,
इधर-उधर उड़ अपनी छवि से
सबका चित्त लुभाती ।

गीत हमारी ही शोभा के
कोयल गाने आती,
गौरैया गुणगान हमारे
गाते नहीं अघाती ।

काँटों की गोदी में पल कर
हम हँसते रहते हैं,
सूरज की गर्मी में जलकर
हम हँसते रहते हैं।

अन्त समय धरती पर गिरकर
हम हँसते रहते हैं,
हम जीवन भर समझ न पाते
दुख किसको कहते हैं।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *