Breaking News

बच्चों की दुनिया

दूध है बिस्कुट है चॉकलेट है जलेबी है
इतनी स्वादभरी है बच्चों की दुनिया
मॉं की ममता जैसी मीठी दुनिया
फूल हैं तितलियॉं हैं पिल्ले हैं खिलौने हैं
इतनी मुलायम है बच्चों की दुनिया
खरगोश जैसी मखमली दुनिया

झुनझुना है पोपइया बाजा है सुग्गा है
इतनी सुरीली है बच्चों की दुनिया
किसी लोकघुन जैसी सुरमाई दुनिया
मोर पंख है रंगीन पेंसिलें हैं उगता सूरज है
इतनी रंगीन है बच्चों की दुनिया
इन्द्रधनुष जैसी आमवाली दुनिया

इतनी उड़ानभरी है बच्चों की दुनिया
कि इसमें चिडियॉं हैं पतंगें हैं कागज के जहाज हैं
इतनी शरारत भरी है बच्चों की दुनिया
कि इसमें गेंद हैं गुब्वारे हैं गुड्डी-गुड्डे हैं गिल्ली डंडे हैं
इतनी संबंधोंभरी है बच्चों की दुनिया
कि इसमें बिल्ली मौसी है चंदा मामा है सूरज दादा है
और हैं दादी नानी की भालू बंदरों वाली कहानियॉं

बच्चों की इस अद्भुत दुनिया में
धरती भी है रेत भी और हैं उनके नाजुक घरौंदे
मौसम भी है बरसात भी और हैं कागज की नावें
बच्चों की इस निष्कलुष दुनिया का
अपना एक सहज आकाश भी है
जिसमें हैं उनके कौतुक सवालो जैसे असंख्य सितारे

बच्चों की इस स्वप्निल दुनिया से इतर
एक और भी दुनिया है इसी दुनिया में
उस दुनिया में भी गौरेये जैसे मासूम बच्चे है
पर वह दुनिया न शहद जैसी मीठी है
न रूई के फाहे जैसी मुलायम
बच्चों की उस दुनिया में
न संगीत है न रंग है न उड़ान है न रोमांच
न ही खट्ठी-मिट्ठी पप्पियां थपकियां लोरियां

धरती सी खुरदरी है बच्चों की वह दुनिया
कागज सी निपट कोरी है बच्चों की वह दुनिया

बच्चों की उस दुनिया का मौसम नहीं बदलता है
रातें कुछ ज्यादा ही होती हैं दिन कुछ कम ही होता है
उस दुनिया के दिनों में होते हैं लकड़सुंघे
और रातों में परियों को परेशान करनेवाले शैतान
बच्चों को उठा ले जाने वाले भेड़िये

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *