जन्मदिन : अपने हुनर का लोहा मनवा चुके दिग्गज एक्टर ‘ओमपुरी’ की लाइफ के किस्से

बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड जगत तक ओम पुरी का जन्म 18 अक्टूबर 1950 को हुआ था. आज अगर वे हमारे बीच होते तो अपना 68वां बर्थडे मना रहे होते. अंबाला में जन्मे ओम पुरी को तंगहाली के कारण होटल में झूठे बर्तन धोने पड़े थे. उनको गुजर-बसर करने के लिए कोयला भी बीनना पड़ा था. आइए इस मौके पर जानते हैं ओम पुरी से जुड़े कुछ अनसुने किस्से…
पंजाबी परिवार में जन्मे ओम पुरी के पिता रेलवे में कर्मचारी थे, जिन्हें सीमेंट चोरी के आरोप में जेल भिजवा दिया गया था. इसके चलते उनका परिवार बेघर हो गया और आर्थिक हालत भी खराब हो गई. बड़े भाई वेद प्रकाश पुरी ने रेलवे प्लेटफार्म पर कुली का काम शुरू कर दिया और घर की माली हालत से निपटने के लिए ओम ने भी एक ढाबे पर झूठे बर्तन धोने शुरू कर दिए थे. यही नहीं, वो अपने बड़े भाई के बच्चों के साथ नजदीकी रेलवे ट्रैक से कोयला बीनकर लाने लगे थे.
ओम पुरी ने काम के साथ-साथ अपनी पढ़ाई जारी रखी और आगे की पढ़ाई के लिए अपने ननिहाल (पटियाला के सन्नौर) चले गए, जहां मामा तारा चंद और ईशर दास के पास रहने लगे. कॉलेज लाइफ में उनका परिचय पंजाबी थिएटर के पिता कहे जाने वाले हरपाल तिवाना से हुआ. इसी दौरान उनका झुकाव थिएटर की तरफ हुआ और उन्होंने नाटकों में हिस्सा लेना शुरू कर दिया.
तस्वीरों में महान नायक ओमपुरी का जीवन
इसके बाद पंजाब से निकलकर ओमपुरी ने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा, दिल्ली में एक्टिंग के गुर सीखे. यहां उनकी मुलाकात नसीरुद्दीन शाह से हुई और उन्होंने पुरी को पुणे के फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में प्रवेश लेने की सलाह दी. ओमपुरी ने एक इंटरव्यू में बताया कि एफटीआईआई में एडमिशन के बाद उनके पास पहनने के लिए एक ढंग की शर्ट तक नहीं थी.
ओमपुरी ने अपने करियर की शुरुआत मराठी नाटक पर आधारित फिल्म ‘घासीराम कोतवाल’ से की थी. साल 1980 में आई फिल्म ‘आक्रोश’ ओम पुरी की सबसे पहली हिट फिल्म साबित हुई. इसके बाद से वे सफलता की बुलंदियों तक पहुंचते गए. उनके अपने जीवनकाल में तकबरीन 300 से ज्यादा फिल्मों में काम किया.
हॉलीवुड का सफर
ओमपुरी ने बॉलीवुड के अलावा हॉलीवुड की ‘ईस्ट इज ईस्ट’, ‘सिटी ऑफ जॉय’, ‘वुल्फ’ जैसे फिल्मों में काम किया. इन फिल्मों में उन्होंने लीड रोड प्ले किए थे.
नया ट्रेंड सेट किया
रूप सौंदर्य में निचले दिन पायदान पर खड़े होने वाले ओम पुरी ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया और फिल्म इंडस्ट्री में खूब नाम कमाया, इससे फायदा यह हुआ कि बॉलीवुड में सिर्फ सुंदर कलाकारों को लेने की प्रथा खत्म हो गई.
विवादों में रही लाइफ
ओम पुरी ने पहली शादी सीमा से की, जिनसे उनका रिश्ता ज्यादा दिन नहीं रहा. 1983 में नंदिता पुरी से दूसरी शादी की और 2016 में दोनों अलग-अलग हो गए. दोनों का एक बेटा ईशान है.
बॉलीवुड की ‘आक्रोश’, ‘अर्धसत्य’, ‘आरोहण’, ‘घायल’, ‘माचिस’, ‘गुप्त’, और ‘प्यार तो होना ही था’ जैसी फिल्मों में अपनी सफलता के झंडे गाड़ने वाले ओम पुरी की 06 जनवरी 2017 को 66 साल उम्र में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था.

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *