खादिमों के बयान बने अर्थव्यवस्था के दुश्मन, बकरीद के मौके पर भी अजमेर दरगाह में पसरा रहा सन्नाटा

अजमेर के ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर आने वाले लोगों की संख्या में अचानक से अजमेर स्थित ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर आने वाले लोगों की संख्या में अचानक से ही भारी गिरावट देखने को मिली है। ईद-उल अजहा यानी बकरीद इस साल 10 जुलाई 2022 को रविवार के दिन मनाई गई। जिसे ईद-उल फित्र के बाद मुसलमानों का दूसरा सबसे बड़ा त्योहार माना जाता है। लेकिन बकरदी के मौके पर भी दरगाह की सड़कें सूनी नजर आई। पिछले कुछ वर्षों तक ईद के मौके पर अजमेर दरगाह के बाजार गुलजार रहते थे। लेकिन इस बार लोगों की संख्या काफी कम नजर आई। जिसका सीधा असर वहां के होटल और फूल के कारोबार पर पड़ा। व्यापारियों की तरफ से कम से कम 50 करोडड के नुकसान का अंदेशा जताया गया है।इसकी सबसे बड़ी वजह अजमेर दरगाह के खादिमों की तरफ से नुपुर शर्मों को लेकर दिए गए भड़काऊ बयानों को बताया जा रहा है। अजमेर दरगाह के खादिम सलमान चिश्ती ने वीडियो में कहा था, “जो कोई भी उस नुपुर शर्मा का सिर लाकर देगा वह उसे अपना घर दे देगा।” उन्होंने वीडियो में कहा ‘‘ आपको सभी मुस्लिम देशों को जवाब देना होगा। यह मैं अजमेर राजस्थान से कह रहा हूं और यह संदेश हुजूर ख्वाजा बाबा के दरबार से है।” भड़काऊ वीडियो बनाने व धमकाने के आरोप में अजमेर दरगाह के खादिम मौलवी को 6 जुलाई की देर रात अजमेर में गिरफ्तार कर लिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.