‘मणिुपर में जो हुआ वह शर्मनाक और दुर्भाग्यपूर्ण

मणिपुर से एक वायरल वीडियो को लेकर राजनीतिक बवाल जबरदस्त तरीके से जारी है। इसकी गूंज आज संसद में भी देखी गई। हालांकि, प्रधानमंत्री ने वायरल वीडियो को लेकर अपना विरोध जाहिर किया और कड़ी कार्रवाई का भरोसा भी दिया है। दूसरी ओर कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दल पूरे मामले को लेकर भाजपा पर हमलावर हैं। इन सबके बीच भाजपा की ओर से पलटवार किया गया है। भाजपा ने साफ तौर पर कहा है कि संवेदनशील मुद्दों पर कांग्रेस सिर्फ राजनीति करना जानती है। भाजपा प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि केंद्र की मोदी सरकार हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है। लेकिन विपक्षी मामला तो उठाते हैं लेकिन चर्चा को तैयार नहीं होते हैं।

महिलाओं की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध

भाजपा नेता ने कहा कि हम पूरे आश्वासन और विश्वास के साथ दोहराना चाहेंगे कि मोदी सरकार भारत की महिलाओं की सुरक्षा के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि जो घटना मणिपुर की है वह दुर्भाग्यपूर्ण है, हम सभी आहत हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कड़े शब्दों में इसकी निंदा की है, कड़ी कार्रवाई का आग्रह किया है और महिलाओं की सुरक्षा के बारे में देश में जागृति फैलाने की बात की है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा कांग्रेस पार्टी से पूछना चाहती है कि संवेदनशील मुद्दों पर आपका दृष्टिकोण क्या है। क्या आप वास्तविक चर्चा चाहते हैं या आप चाहते हैं कि जिन नियमों के तहत चर्चा होगी, उन पर आपके अहंकार का असर हो?

बहस से भाग जाती है कांग्रेस

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि संसद के दोनों सदनों में हम इस पर बहस चाहते थे, क्योंकि ये हमारे लिए गंभीर विषय है। मोदी सरकार देश की बहन-बेटियों की इज्जत के बारे में बहुत ही गंभीर और संवेदनशील है। उन्होंने कहा कि भाजपा, कांग्रेस से पूछना चाहती है कि आप चाहते क्या हैं? संसद में सार्थक बहस चाहते हैं या रूल पर अपना EGO (इगो) चाहते हैं? इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस वाले हर सदन से पहले एक गुब्बारा छोड़ते हैं और फिर बहस से भाग जाते हैं। आप सभी को याद होगा…वो पेगासस की बात लेकर आए थे, सरकार की ओर से जवाब दिया गया, कहा-सुप्रीम कोर्ट से इन्क्वायरी होनी चाहिए और जब इन्क्वायरी हुई तो राहुल गांधी ने अपना ही फोन नहीं दिया। कांग्रेस के इन कुकृत्यों को याद किया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *