रेड के दौरान IAS के बेटे की मौत

भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी संजय पोपली के 27 वर्षीय बेटे की यहां शनिवार को गोली लगने से मौत हो गयी। कथित तौर पर शनिवार को चंडीगढ़ स्थित अपने घर में पोपली के बेटे ने लाइसेंसी गन से खुद को गोली मार ली। एसएसपी (यूटी) कुलदीप चहल ने बताया कि विजिलेंस टीम पूछताछ के लिए आईएएस अधिकारी संजय पोपली के घर पहुंची और गोली चलने की आवाज सुनी। गिरफ्तार आईएएस संजय पोपली के आवास से कई सोने और चांदी के सिक्के, नकदी, मोबाइल फोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बरामद किए गए।एसएसपी कुलदीप चहल ने कहा कि विजिलेंस टीम पूछताछ के लिए यहां (आईएएस संजय पोपली के घर) पहुंची और गोली चलने की आवाज सुनी। सत्यापन के बाद, उन्होंने महसूस किया कि उनके बेटे ने अपनी लाइसेंसी बंदूक से खुद को गोली मार ली है। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। संजय पोपली के रिश्तेदार अनु प्रीत कुलार ने कहा कि विजिलेंस टीम ने संजय पोपली से कहा कि वह किसी ऐसी चीज पर दस्तखत करें, कहीं ऐसा न हो कि यह उनके बेटे के लिए अच्छा न हो। उन्होंने उसे कमरे में बंद कर दिया और उसके बेटे को ऊपर ले गए। हम नीचे खड़े थे और कुछ देर बाद हमें बंदूक की आवाज सुनाई दी। विजिलेंस वालों ने हत्या की है। वहीम कार्तिक पोपली की मां ने कहा कि  उन्होंने मेरे बच्चे को प्रताड़ित किया और उसे मार डाला। उन्होंने सबूत के लिए मेरी घरेलू सहायिका को प्रताड़ित किया। पूरा विजिलेंस ब्यूरो और डीएसपी सीएम के दबाव में हैं। इस तरह वे लोगों को मार रहे हैं। उन्होंने कहा, “मुझे न्याय चाहिए। मैं अदालत जाउंगी। (पंजाब के मुख्यमंत्री) भगवंत मान को इसका जवाब देना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.