केरल ने केंद्र सरकार से रेबीज रोधी टीके की गुणवत्ता की जांच करने को कहा

दिल्ली / एनसीआर (DID News): केरल में रेबीज-रोधी टीके की तीन खुराक लेने के बावजूद एक आवारा कुत्ते के काटने से 12 साल की बच्ची की मौत हो जाने के एक दिन बाद राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से टीके की गुणवत्ता जांच करने को कहा।

जॉर्ज ने बताया कि उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया को राज्य में रेबीज-रोधी टीका लगवाने के बावजूद पांच लोगों की मौत हो जाने के बाद लोगों के मन में पैदा हुई आशंका को दूर करने के लिए एक पत्र भेजा था। जॉर्ज ने कहा, केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला टीकों की गुणवत्ता सुनिश्चित करती है और प्रमाण पत्र देती है।

हाल ही में कुत्ते के काटने से मरने वाले पांच व्यक्तियों को टीका लगाया गया था जिसमें केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला का प्रमाण पत्र है। टीके लगवाने के बावजूद, उनकी मृत्यु हो गई। उन्होंने बताया कि पत्र वैक्सीन और बैच नंबर के विवरण के साथ भेजा गया था। इस बीच, केरल गवर्नमेंट मेडिकल ऑफिसर्स एसोसिएशन (केजीएमओए) ने बच्ची के इलाज के दौरान अस्पताल के अधिकारियों की ओर से हुई चूक के आरोप को खारिज कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.